प्रजातंत्र में राजनीतिक दलों का महत्व।

प्रजातंत्र में राजनीतिक दलों का महत्व।

प्रजातंत्रात्मक शासन के लिए राजनीतिक दलों का होना अनिवार्य है। गिलक्राइस्ट के अनुसार,प्रजातंत्र शासन जनता का शासन ना होकर जनता के प्रतिनिधियों का ही शासन होता है। लॉर्ड ब्राइस के अनुसार, प्रजातंत्र में राजनीतिक दल अनिवार्य है।

कोई भी विशाल स्वतंत्र देश उनके बिना नहीं रह सका है कि उन के अभाव में प्रतिनिधित्व आत्मक शासन किस प्रकार चलाया जा सकता है। लीकाक के अनुसार केवल दलीय प्रणाली ही ऐसा माध्यम है। जो लोकतंत्र या शासन को संभव बनाती है। प्रजातंत्र रूपी इंजन को चलाने के लिए राजनीतिक दल पटरी के रूप में कार्य करते हैं।

संक्षेप में प्रजातंत्र में राजनीतिक दलों का महत्व निम्नलिखित दृष्टि से है-

1-स्वस्थ लोकमत का निर्माण करना।
2-निर्वाचनओं का संचालन करना।
3-सभी वर्गों के हितों का प्रतिनिधित्व करना।
4-मतों एवं सिद्धांतों का प्रचार एवं प्रसार करना।
5-सरकार का निर्माण और संचालन करना।
6-शासन सत्ता को मर्यादित रखना।
7-शासन के विभिन्न अंगों में समन्वय में स्थापित करना।

वर्तमान में कोई भी लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था दलों के अभाव में कार्य नहीं कर सकती है। नेपाल में कुछ समय पूर्व दलविहीन लोकतंत्र के सिद्धांत को अपनाने का प्रयास किया गया परंतु यह परिहास पूर्णतया असफल हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *