हरित क्रांति क्या है-

हरित क्रांति क्या है-

1-हरित क्रांति:

वर्ष 1960 के मध्य में स्थिति और भी दयनीय हो गई जब पूरे देश में अकाल की स्थिति बनने लगी। उन परिस्थितियों में भारत सरकार ने विदेशों से हाइब्रिड प्रजाति के बीज मंगाए। अपनी उच्च उत्पादकता के कारण इन बीजों को उच्च उत्पादकता किस्में (High Yielding Varieties- HYV) कहा जाता था।

सर्वप्रथम HYV को वर्ष 1960-63 के दौरान देश के 7 राज्यों के 7 चयनित जिलों में प्रयोग किया गया और इसे गहन कृषि जिला कार्यक्रम (Intensive Agriculture district programme- IADP) नाम दिया गया। यह प्रयोग सफल रहा तथा वर्ष 1966-67 में भारत में हरित क्रांति को औपचारिक तौर पर अपनाया गया।

 हरित क्रांति क्या है-
हरित क्रांति क्या है-

मुख्य तौर पर हरित क्रांति देश में कृषि उत्पादन को बढ़ाने के लिये लागू की गई एक नीति थी। इसके तहत अनाज उगाने के लिये प्रयुक्त पारंपरिक बीजों के स्थान पर उन्नत किस्म के बीजों के प्रयोग को बढ़ावा दिया गया।

पारंपरिक बीजों के स्थान पर HYVs के प्रयोग में सिंचाई के लिये अधिक पानी, उर्वरक, कीटनाशक की आवश्यकता होती थी। अतः सरकार ने इनकी आपूर्ति हेतु सिंचाई योजनाओं का विस्तार किया तथा उर्वरकों आदि पर सब्सिडी देना प्रारंभ किया।

प्रारंभ में HYVs का प्रयोग गेहूँ, चावल, ज्वार, बाजरा और मक्का में ही किया गया तथा गैर खाद्यान्न फसलों को इसमें शामिल नहीं किया गया। परिणामस्वरूप भारत में अनाज उत्पादन में अत्यंत वृद्धि हुई।

विश्व के बड़े हिस्से में हरित क्रान्ति ने नामानुरूप क्रांतिकारी परिणाम दिखाने शुरू कर दिये। विकासशील देशों ने कम स्थान पर अधितकम और उच्चतम फसल के उत्पादन को सफल बना दिया। नए और विकसित बीजों का निर्माण आरंभ हुआ जो स्वयं कीटों से अपनी रक्षा करने में सक्षम सिद्ध हुए। समन्यृप में ज़मीन की उर्वरता को बनाए रखने के लिए उसमें एक वर्ष में दो अलग-अलग फसलों की खेती करी जाती थी। लेकिन हरित क्रांति के परिणामस्वरूप इस परंपरा को भी नया रूप दिया गया और के वर्ष में एक ही ज़मीन और एक फसल दो बार की प्रक्रिया को संभव कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *