जीवन के लिए जल क्यों अनिवार्य है?

जीवन के लिए जल क्यों अनिवार्य है

हेलो दोस्तों मेरा नाम भूपेंद्र है। और आज के आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि जीवन के लिए जल की अनिवार्यता इसका मतलब यह है कि जल हमारे जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण है। अगर हमारे जीवन में जल नहीं होगा। तो हम जीवित नहीं रह पाएंगे। इसलिए हमारे जीवन के लिए जल बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे जल की अनिवार्यता तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें

जल क्या है?

जल या पानी एक आम रासायनिक पदार्थ है जिसका अणु दो हाइड्रोजन परमाणु और पीने के पानी के लाभ एक ऑक्सीजन परमाणु से बना है – H2O। यह सारे प्राणियों के जीवन का आधार है। आमतौर पर जल शब्द का प्रयोग द्रव अवस्था के लिए उपयोग में लाया जाता है पर यह ठोस अवस्था (बर्फ) और गैसीय अवस्था (भाप या जल वाष्प) में भी पाया जाता है।

जल की अनिवार्यता ?

पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति आदि सागर में हुई। आदि सागर में पहले पूर्व केंद्रीय कोशिकाओं (जैसे-जीवाणु, नीले हरे शैवाल) की उत्पत्ति हुई। इसके पश्चात सुकेंद्रकीय, कोशिकाओं का विकास हुआ। सरल, एककोशिकीय,सुकेंद्रकीय जीव धारियों से जटिल बहुकोशिकीय जीव धारियों की उत्पत्ति जैव विकास के फल स्वरुप हुई है। जलियाधारियों से स्तरीय जीव धारियों का विकास हुआ है।

जल जीवन के लिए आवश्यक है। सभी जीव धारियों के शरीर में लगभग 60.90% जल पाया जाता है।यह जीव द्रव्य का आवश्यक घटक होने के साथ-साथ समस्त जैविक क्रियाओं के लिए भी आवश्यक है।

जीवन के लिए जल क्यों अनिवार्य है
जीवन के लिए जल क्यों अनिवार्य है

जीवन के लिए जल की अनिवार्यता?

  1. कोशिका की अधिकांश क्रियाएं जलीय माध्यम में होती हैं। घुलनशील अवस्था में पदार्थों के अणु सरलता से गति करते हैं।
  2. जल परिवहन माध्यम का कार्य भी करता है। रुधिर, लसीका उत्तक तरल आदि सभी तरल माध्यम के द्वारा पदार्थों का आदान प्रदान करते हैं।रुधिर भोज्य पदार्थों उत्सर्जित पदार्थों हारमोंस कैसे एंजाइम्स आदि के वितरण में सहायक होती है।
  3. शरीर में पाए जाने वाले अधिकांश एंजाइम्स जल की उपस्थिति में ही क्रियाशील होते हैं।
  4. उच्च उष्मा धारिता के कारण जल के तापमान में बहुत कम उतार-चढ़ाव होते हैं।अताउल जल के कारण जीवो की कोशिकाओं के तापमान में बहुत कम परिवर्तन होता है और जैविक क्रियाएं अपेक्षाकृत एक निश्चित तापमान पर संपन्न होती रहती है।
  5. जल के वाष्पीकरण हेतु अधिक ऊष्मा की आवश्यकता होती है। पसीने के वाष्पीकरण के फल स्वरुप शरीर ताप का नियमन होता है।
  6. जल के कारण जीवधारी के शरीर का अंत वातावरण स्थिर बना रहता है।

हम पानी को कैसे बचा सकते हैं?

हम पानी को निम्नलिखित कारणों से बचा सकते हैं-

  1. पानी और रेत के साथ एक बोतल भरें और इसे शौचालय की टंकी में डालें। यह पानी को विस्थापित करता है और शौचालय को प्रत्येक फ्लश के साथ कम पानी का उपयोग करता है।
  2. अपने दाँत ब्रश करते समय पानी बंद कर दें। अमेरिकी पर्यावरण संरक्षण एजेंसी (ईपीए) के अनुसार, इस सरल कार्य से एक महीने में 200 गैलन से अधिक पानी बचाया जा सकता है।
  3. अपने दाँत ब्रश करते समय पानी बंद कर दें। अमेरिकी पर्यावरण संरक्षण एजेंसी (ईपीए) के अनुसार, इस सरल कार्य से एक महीने में 200 गैलन से अधिक पानी बचाया जा सकता है।
  4. स्मार्ट लॉन वॉटरिंग का अभ्यास करें। दिन के इष्टतम समय में अपने लॉन को पानी दें और सुनिश्चित करें कि आपका स्प्रिंकलर सिस्टम लॉन को पानी दे रहा है और फुटपाथ को नहीं।
  5. कम पानी इस्तेमाल करने वाले कपड़े धोने के वाशर, शौचालय और डिशवॉशर खरीदें। ये उपकरण न केवल आपके पानी के बिल, बल्कि आपके बिजली के बिल भी बचा सकते हैं।
  6. टपकता हुआ नल, शौचालय, उपकरण और छिड़काव ठीक करें। लीक्स मात्रा में कम होते हैं, लेकिन वे समय के साथ बहुत सारे पानी की बर्बादी के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।

1. जल के बचाव के लिए दो उपाय बताएं?

1.टपकता हुआ नल, शौचालय, उपकरण और छिड़काव ठीक करें। लीक्स मात्रा में कम होते हैं, लेकिन वे समय के साथ बहुत सारे पानी की बर्बादी के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।
2.दाँत ब्रश करते समय पानी बंद कर दें। अमेरिकी पर्यावरण संरक्षण एजेंसी (ईपीए) के अनुसार, इस सरल कार्य से एक महीने में 200 गैलन से अधिक पानी बचाया जा सकता है।

read more – सुनामी का अर्थ क्या है

Check hear – click

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *