खुली और प्रच्छन्न बेरोजगारी के बीच अंतर।

खुली और प्रच्छन्न बेरोजगारी के बीच अंतर।

खुली बेरोजगारी-

खुली बेरोजगारी उस स्थिति को संदर्भित करती है जब लोगों को अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए किसी भी तरह का काम नहीं मिलता है और वे पूरी तरह से निष्क्रिय रहते हैं।

प्रच्छन्न बेरोजगारी-

प्रच्छन्न बेरोजगारी उस स्थिति को संदर्भित करती है जब लोग स्पष्ट रूप से काम कर रहे होते हैं लेकिन उन सभी को पूरे दिन अपनी क्षमता से कम काम करने और थोड़ा कमाने के लिए मजबूर किया जाता है।

खुली और प्रच्छन्न बेरोजगारी के बीच महत्वपूर्ण अंतर-

खुली बेरोजगारी-

  • इस बेरोजगारी में, व्यक्ति के पास कोई नौकरी नहीं है और वह अपनी आजीविका कमाने में असमर्थ है।
  • यह दूसरों को स्पष्ट रूप से दिखाई देता है।
  • यह बेरोजगारी शिक्षित बेरोजगारों में विद्यमान है।
  • लोगों की बेरोजगारी एक अर्थव्यवस्था में वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन को प्रभावित करेगी।
  • इसमें व्यक्ति काम करने को तैयार होता है, लेकिन काम नहीं मिल पाता।

प्रच्छन्न बेरोजगारी-

  • इस बेरोजगारी में व्यक्ति ऐसे स्थान पर कार्य करता है जहाँ अधिक लोगों की आवश्यकता नहीं होती है।
  • यह बेरोजगारी छिपी है।
  • यह बेरोजगारी ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि क्षेत्र में मौजूद है।
  • लोगों की बेरोजगारी वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन को प्रभावित नहीं करेगी क्योंकि यहां पहले से ही आवश्यकता से अधिक श्रमिक हैं।
  • इसमें व्यक्ति काम तो कर रहा है, लेकिन अपनी क्षमता से कम वेतन पर।

प्रश्न और उत्तर (FAQ)

खुली बेरोजगारी किसे कहते हैं।

खुली बेरोजगारी उस स्थिति को संदर्भित करती है जब लोगों को अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए किसी भी तरह का काम नहीं मिलता है और वे पूरी तरह से निष्क्रिय रहते हैं।

प्रच्छन्न बेरोजगारी किसे कहते हैं।

प्रच्छन्न बेरोजगारी उस स्थिति को संदर्भित करती है जब लोग स्पष्ट रूप से काम कर रहे होते हैं लेकिन उन सभी को पूरे दिन अपनी क्षमता से कम काम करने और थोड़ा कमाने के लिए मजबूर किया जाता है।

also read – सार्वभौमिक मताधिकार से आप क्या समझते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *