कोशिका किसे कहते है? | कोशिका के प्रकार | koshika

कोशिका किसे कहते है-(परिभाषा)

आज के इस लेख में हम जानेंगे कोशिका के बारे में ओर यह कितने प्रकार की होती है इसकी कोशिका की परिभाषा और कोशिका के कार्य आदि।

कोशिकाएँ जीवन की मूल इकाई होती हैं। सभी जीवित जीव या तो एकल कोशिकाएँ या बहु-कोशिकीय जीव हैं जो एक साथ काम करने वाली कई कोशिकाओं से मिलकर बने होते हैं।

कोशिका (Cell) सजीवों के शरीर की रचनात्मक और क्रियात्मक इकाई होती है और प्राय: स्वत: जनन भी होती है। यह विभिन्न पदार्थों का वह छोटे-से-छोटा वह रूप है जिसमें वे सभी क्रियाएँ होती हैं. कोशिकाएं सबसे छोटी इकाई होती हैं जो इन सभी कार्यों को पूरा कर सकती हैं।

कोशिका की‌ परिभाषा | koshika kise kahate hain

कोशिका (Cell) सजीवों के शरीर की रचनात्मक एवं क्रियात्मक इकाई कोशिका, सेल (Cell) कहलाती है। कोशिका भी अनेक प्रकार के अवयवों से मिलकर बना होता है। कोशिका जीवन की रचनात्मक इकाई मानी जाती है।  यह विभिन्न पदार्थों का वह छोटे-से-छोटा संगठित रूप है। कोशिका की खोज सर्वप्रथम श्रेय राबर्ट हुक (Robert Hooke) के द्वारा की गयी थी।

जीवित कोशिका को सबसे पहले देखने का श्रेय सर ल्वूवेन हॉक को जाता है, जिन्होंने जीवाणु की जीवित कोशिका को सर्वप्रथम देखा था। कोशिका के अंदर के घटक कोशिकांग (Cell Organelle) कहलाते हैं। एक कोशिका अपने-आप में एक पूर्ण जीव हो सकती है, इस स्थिति में जीव को एक-कोशिकीय जीव भी कहा जाता है।

कोशिका किसे कहते है-(परिभाषा)
कोशिका किसे कहते है-(परिभाषा)

कोशिका की कार्य? | koshika ke karya

कोशिकाएं सभी जीवों में पाई जाती हैं और इनमें जीवाणुओं, वनस्पतियों और जन्तुओं में ऊतकों का निर्माण होता है। कोशिकाएं अपनी जीवनकाल के दौरान विभिन्न क्रियाओं का सम्मान करती हैं, जैसे निर्माण, संरचना और विभिन्न प्रकार की ऊर्जा उत्पादन।

कुछ महत्वपूर्ण कोशिकाओं और उनके कार्य निम्नलिखित हैं:

  • सेल वॉल को निर्मित करने वाली कोशिकाएं: सभी कोशिकाएं अपने आप को सेल वॉल से घेरे हुए होती हैं, जो उन्हें सुरक्षा देता है।
  • मिटोकोंड्रिया: मिटोकोंड्रिया ऊर्जा उत्पादन करते हैं, जो जीवाणुओं के लिए आवश्यक होता है।
  • रिबोसोम: रिबोसोम जीवाणुओं में प्रोटीन संश्लेषण का आधार होते हैं।
  • गोल्जी बॉडी: गोल्जी बॉडी ऊतकों को प्रोटीन और लिपिड के रूप में संचयित करने में मदद करते हैं।
  • लाइसोसोम: लाइसोसोम ऊतकों के अंदर उपलब्ध अन्य ऊतकों को विघटित करते हैं

एक कोशिका झिल्ली जो कोशिका के अंदर को बाहर से अलग करती है। एक झिल्ली के भीतर एक छोटे से क्षेत्र के भीतर जीवन की रासायनिक प्रतिक्रियाओं को केंद्रित करके, कोशिकाएं जीवन की प्रतिक्रियाओं को बहुत तेजी से आगे बढ़ने की अनुमति देती हैं, अन्यथा वे।

जेनेटिक सामग्री जो सेल की संतानों के लक्षणों को पारित करने में सक्षम है। प्रजनन करने के लिए, जीवों को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनकी संतानों के पास वह सारी जानकारी हो, जो उन्हें जीवन के सभी कार्यों को पूरा करने में सक्षम हो। सभी आधुनिक कोशिकाएं डीएनए का उपयोग करते हुए इसे पूरा करती हैं,

जिनके आधार-युग्मक गुण कोशिकाओं को सटीक प्रतियां बनाने की अनुमति देते हैं। एक सेल का “ब्लूप्रिंट” और “ऑपरेटिंग सिस्टम।” कुछ वैज्ञानिकों को लगता है कि पहले कोशिकाओं ने आरएनए का इस्तेमाल किया होगा। प्रोटीन जो विभिन्न प्रकार के संरचनात्मक, चयापचय और प्रजनन कार्यों का प्रदर्शन करते हैं।अनगिनत अलग-अलग कार्य हैं जिन्हें ऊर्जा प्राप्त करने और पुन: उत्पन्न करने के लिए कोशिकाओं को प्रदर्शन करना चाहिए।

सेल के आधार पर, इन कार्यों के उदाहरणों में प्रकाश संश्लेषण शामिल हो सकते हैं, चीनी को तोड़ना, हरकत करना, अपने डीएनए की नकल करना, कुछ पदार्थों को कोशिका झिल्ली से गुजरने की अनुमति देना, जबकि दूसरों को बाहर रखना, आदि।

प्रोटीन अमीनो एसिड से बने होते हैं, जो जैव रसायन के “लेगोस” की तरह होते हैं। अमीनो एसिड विभिन्न आकारों, विभिन्न आकृतियों और विभिन्न गुणों जैसे कि ध्रुवता, आयनिक आवेश और हाइड्रोफोबिसिटी के साथ आते हैं।अपने आनुवंशिक सामग्री में निर्देशों के आधार पर अमीनो एसिड को एक साथ रखकर, कोशिकाएं लगभग किसी भी कार्य करने के लिए जैव रासायनिक मशीनरी बना सकती हैं।

कुछ वैज्ञानिकों को लगता है कि पहले कोशिकाओं ने कुछ महत्वपूर्ण कार्यों को पूरा करने के लिए आरएनए का उपयोग किया होगा, और फिर एक उत्परिवर्तन के परिणामस्वरूप काम करने के लिए बहुत अधिक बहुमुखी अमीनो एसिड ले जाया गया।

कोशिका किसे कहते है-(परिभाषा)
कोशिका किसे कहते है-(परिभाषा)

कोशिकाएं दो प्रकार की होती हैं

  1. प्रोकैरियोटिक कोशिका
  2. यूकैरियोटिक कोशिका

प्रोकैरियोटिक कोशिका

प्रोकैरियोटिक कोशिका में केन्द्रक झिल्ली, केन्द्रक सुविकसित कोशिकांग अनुपस्थित होते हैं | प्रोकैरियोटिक कोशिका की कोशिका भित्ति पेप्टाइडोग्लायकेन या म्युरेन की बनी होती हैं | प्रोकैरियोटिक कोशिका में 70 ‘s’ प्रकार के राइबोसोम पाए जाते हैं | कोशिका द्रव्य के सीधे सम्पर्क में DNA तथा RNA रहते हैं | इनके गुणसूत्र में हिस्टोन प्रोटीन का अभाव होता हैं |

उदाहरण: जीवाणु ( Bacteria ), साइनोबैक्टीरिया अर्कीबैक्टीरिया, विषाणु ( Virus ), बैक्टीरियोफेज, माइकोप्लाज्मा ( PPLO ), नील हरित शैवाल ( Blue green algae ) रिकेट्सिया की कोशिकाएं (cell) आदि |

यूकैरियोटिक कोशिका

यूकैरियोटिक कोशिका में कोशिका भित्ति ( cell wall ) सेल्युलोस तथा पेक्टोज की बनी होती हैं।
यूकैरियोटिक कोशिका में कोशिका झिल्ली (cell membrane ), केन्द्रक तथा पूरी तरह से विकसित कोशिकांग उपस्थित होते हैं।

यूकैरियोटिक कोशिका में 80′s‘ प्रकार के राइबोसोम पाए जाते हैं | इनमें DNA तथा RNA कोशिका द्रव्य के सीधे सम्पर्क में नहीं रहते हैं | यूकैरियोटिक कोशिकाओ के गुणसूत्र (chromosome) में हिस्टोन प्रोटीन पायी जाती हैं | जो क्षारीय होती हैं |
उदाहरण – सभी जन्तु कोशिका, प्रोटोजोआ, जीव जन्तु आदि

कोशिका के अंग कितने होते हैं?

कोशिका (Cell) के मुख्यतः 3 अंग होते हैं-
1) कोशिका झिल्ली (cell membrane),
2) कोशिका द्रव्य (cytoplasm) जिसमें छोटी-छोटी संरचनाएँ पाई जाती हैं एवं
3) केन्द्रक

कोशिका की खोज

कोशिका की खोज रोबर्ट हुक के द्वारा 1665 ईसा पूर्व में की गई थी।

8 thoughts on “कोशिका किसे कहते है? | कोशिका के प्रकार | koshika

    1. मनुष्या के शरीर में लगभग 60-90 ट्रिलियन कोशिकाये पाई जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *