चुंबकीय गुण क्या है? व उनके प्रकार (12th, Chemistry, Lesson-1)

चुंबकीय गुण क्या है? व उनके प्रकार (12th, Chemistry, Lesson-1)

चुंबकीय गुण के बारे में

चुंबकीय गुण (magnetic properties): परमाणु में आवेशित (charged) इलेक्ट्रॉन का भ्रमण चुंबकीय आघुर्ण उत्पन्न करता है। इलेक्ट्रॉन दो प्रकार की गति रखता है: (1) कक्षक गति, (2) चक्रण गति। इसी आधार पर यह दो प्रकार का चुंबकीय आघूर्ण उत्पन्न करता है। (1) कक्षक चुंबकीय आघूर्ण (orbital magnetic moment) (2) चक्रण चुंबकीय आघूर्ण (spin magnetic moment)

इलेक्ट्रॉनों के उपरोक्त दोनों प्रकार के स्थायी (permanent) चुंबकीय आघूर्ण, पदार्थों में चुंबकीय गुण उत्पन्न कर देते हैं। बाह्रा चुंबकीय क्षेत्र में पदार्थों के भिन्न-भिन्न चुंबकीय व्यवहार (magnetic behaviour) पाए जाते हैं। इस आधार पर चुंबकीय पदार्थों (magnatic substance) को निम्न भागों में वर्गीकरण (divided) किया जाता है।

अनुचुम्बकीय पदार्थ

चुंबकीय क्षेत्र में आकर्षित होने वाले पदार्थ अनुचुंबकीय पदार्थ कहलाते है। इन पदार्थों के परमाणु या अणुओं में कुछ अयुग्मित (unpaired) इलेक्ट्रॉन होते हैं। चुंबकीय क्षेत्र में चुंबकीय आघुणो की क्रमिक व्यवस्था (allignment) चुंबकीय गुण उत्पन्न कर देती है। इस प्रकार चुंबकीय क्षेत्र में ये पदार्थ अस्थायी चुम्बकत्व ग्रहण कर लेते हैं। जैसे- Cu, O₂, NO आदि।

प्रति चुम्बकीय पदार्थ

चुंबकीय क्षेत्र में पृतिकर्षित होने वाले पदार्थ के प्रति चुंबकीय पदार्थ कहलाते हैं। इन पदार्थों के परमाणु या अणुओं में केवल युग्मित (paired) इलेक्ट्रॉन होते हैं। जैसे- Zn, TiO₂, NaCl आदि।

चुंबकीय गुण क्या है? व उनके प्रकार (12th, Chemistry, Lesson-1)

लौह चुंबकीय पदार्थ

चुंबकीय क्षेत्र में अति प्रबलता से आकर्षित होने वाले पदार्थ लोह चुंबकीय पदार्थ कहलाते हैं। ये पदार्थ चुंबकीय क्षेत्र में चुंबकीय आघूणो की स्थाई क्रमिक व्यवस्था ग्रहण कर लेते हैं। यह व्यवस्था चुंबकीय क्षेत्र के हटाने पर भी भंग नहीं होती है जैसे- Fe, Co, Ni, CrO₂ आदि।

प्रति लोह चुंबकीय पदार्थ

वे अनुचुंबकीय पदार्थ जो चुंबकीय क्षेत्र में चुंबकीय आघूणो की क्रमिक व्यवस्था द्वारा परिणामी (resultant) चुंबकीय आघूर्ण शून्य कर देते हैं, प्रति लोह चुंबकीय पदार्थ कहलाते हैं। जैसे- MnO। इस प्रकार के पदार्थों में चुंबकीय आघूर्ण (Magnetic moment) क्रमशः समान संख्या एक-दूसरे के विपरीत (opposite) व्यवस्था रखते हैं।

फेरी चुम्बकीय पदार्थ

वे अनुचुंबकीय पदार्थ (Paramagnetic substances) जो चुंबकीय क्षेत्र (magnetic field) में चुंबकीय आघूणो की व्यवस्था द्वारा परिणाम चुंबकीय आघूर्ण (Magnetic moment) का मान लोह चुंबकीय पदार्थ की तुलना में कम रखते हैं, फेरी चुंबकीय पदार्थ (Ferry magnetic material) कहलाते हैं। इन पदार्थों में चुंबकीय आघूणो की क्रमिक व्यवस्था में समानांतर व्यवस्था अधिक व इसके विपरीत (anti parallel) व्यवस्था कम होती है। जैसे- Fe₃O₄ आदि।

More Information- बिंदु दोष किसे कहते है? व फ्रेंकल दोष के बारे में (12th, Chemistry, Lesson-1)

My Website- olds.10th12th.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *