पायस क्या है? और पायस के प्रकार, उदाहरण, उपयोग

पायस क्या है? और पायस के प्रकार, उदाहरण, उपयोग

ऐसा निकाय जिसमें एक द्रव की बूंदे दूसरे द्रव में परिक्षिप्र रहती है, अर्थात जब एक द्रव दूसरे द्रव अमिश्रणीय द्रव में परिक्षिप्र होकर कोलाइडी विलयन बनाता है पायस कहलाता है।

पायस क्या है? और पायस के प्रकार, उदाहरण, उपयोग

12th, Chemistry, Lesson-5

पायस के प्रकार

  1. जल में तेल– जब जल की अधिक मात्रा में तेल को लेकर हिलाया जाता है तो जल में तेल प्रकार का पायस बनता है। उदाहरण- दूध
  2. तेल में जल– जब तेल की अधिक मात्रा में कम मात्रा में जल को मिलाकर हिलाया जाता है तो तेल में एक प्रकार का पायस बनता है। उदाहरण- कॉड-लिवर या कोल्ड क्रीम

उपयोग

  1. आमाशय व छोटी आंत में वसा का पाचन पायसीकरण की प्रक्रिया से ही होता है।
  2. साबुन तथा अपमार्जक की क्रियाविधि पायसीकरण के द्वारा ही समझायी जा सकती है।
  3. सड़कों के निर्माण में जल में पायसीक्रत स्फाल्ट प्रयुक्त होता है।
  4. दूध जो कि हमारे भोजन का महत्वपूर्ण भाग है, वास्तव में द्रव वसा का जल में पायस है।

पायसीकरण

जब दो या दो से अधिक द्रवों को आपस मिलाया जाता है, तो पायस प्राप्त होते हैं, इस क्रिया को पायसीकरण कहते हैं। पायस स्थायी नहीं होते हैं, क्योंकि द्रवो के बीच ससंजक बल अधिक होता है।

अंतिम निष्कर्ष– दोस्तों आज मैंने इस पोस्ट के माध्यम से आपको पता है कि पारस क्या होता है और इसके उपयोग क्या होते हैं।

अगर आपको हमारी यह पायस वाली पोस्ट पसंद आती है तो इसे अपने दोस्तों में जरूर शेयर करें और हां अगर आप एजुकेशन से संबंधित जानकारी तुरंत प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन अवश्य करें जी धन्यवाद।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *