प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदा के बीच का अंतर।

प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदा के बीच का अंतर।

आपदा की परिभाषा-

” खतरे का बहुत स्वरूप जिसके कारण सामाजिक ढांचा एवं विद्यमान व्यवस्था चरमरा जाए तथा जन समुदाय, पशुधन व अन्य संपत्ति की क्षतिपूर्ति हेतु बाहरी सहायता की आवश्यक अनुभव की जाए, आपदा कहलाती है।

प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदा के बीच का अंतर।
प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदा के बीच का अंतर।

प्राकृतिक आपदाएं-

  1. यह नितांत प्राकृतिक होती हैं।
  2. इनके लिए प्राकृतिक कारक – स्थलीय, वायु जनित या जलीय उत्तरदाई है।
  3. प्राकृतिक आपदाएं विध्वंसक एवं रचनात्मक दोनों होती हैं।
  4. इनका पूर्वानुमान लगाना लगभग असंभव है।
  5. आपदा पूर्व प्रबंधन के द्वारा इनसे होने वाली क्षति को न्यूनतम किया जा सकता है परंतु इन्हें रोकना संभव नहीं है।

मानव निर्मित आपदाएं –

  1. यह आता है मानव द्वारा उत्पन्न होती है।
  2. इनके लिए मानवीय कारक – असावधानी, भूल या स्वयं मानव द्वारा की गई लापरवाही उत्तरदाई है।
  3. मानवीय आपदाएं सदैव विध्वंसक होती है।
  4. इनका पूर्वानुमान लगाया जा सकता है।
  5. इनको प्रबंधन एवं सावधानी द्वारा रोकना संभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *