शैवाल किसे कहते हैं? परिभाषा | लक्षण | संरचना | आर्थिक महत्व |

शैवाल किसे कहते हैं? परिभाषा | लक्षण | संरचना | आर्थिक महत्व |

शैवाल, एकवचन शैवाल, प्रोटिस्टा राज्य के मुख्य रूप से जलीय प्रकाश संश्लेषक जीवों के समूह के सदस्य। शैवाल के कई प्रकार के जीवन चक्र होते हैं, और उनका आकार सूक्ष्म माइक्रोमोनास प्रजातियों से लेकर विशाल केल्प तक होता है जो लंबाई में 60 मीटर (200 फीट) तक पहुंचते हैं। उनके प्रकाश संश्लेषक वर्णक पौधों की तुलना में अधिक विविध हैं, और उनकी कोशिकाओं में पौधों और जानवरों के बीच नहीं पाए जाने वाले लक्षण हैं। ऑक्सीजन उत्पादकों के रूप में और लगभग सभी जलीय जीवन के लिए खाद्य आधार के रूप में उनकी पारिस्थितिक भूमिकाओं के अलावा, शैवाल कच्चे तेल के स्रोत के रूप में और भोजन के स्रोत और मनुष्यों के लिए कई दवा और औद्योगिक उत्पादों के रूप में आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण हैं।

शैवाल की परिभाषा | sewal ki paribhasha

शैवाल क्लोरोफिल युक्त है। जिनमें सरल संवहन ऊतक रहित स्वपोषी पैलोफार वास्तविक जड़ें। तथा व पत्रियां नहीं पायी जाती है। शैवालों का अध्ययन एल्गोलॉजी फाइकोलॉजी र्में करते है।

शैवाल के लक्षण | sewal ke lakshan

  1. शैवालों में लैगिक जनन के बाद भ्रूण का निर्माण नहीं होता है।
  2. इनमें क्लोरोफिल पाया जाता
  3. अधिकांश शैवाल जलीय होते हैं।
  4. . कुछ शैवाल परजीवी होते हैं, जैसे सीफेल्यूरोस
  5. कि चाय कहता तथा मग्नोलियां की पत्रियों में लाल किटू रोग उत्पन्न करता है।

शैवाल की संरचना | sewal ke sanrachna

एक कोशिकीय | ek koshikiy

चल – इनमें कशाभ द्वारा गति होती है
अचल – कशाभ की अनुपस्थिति के कारण गति नहीं होती है।
बहुकोशिकीय | bahukoshikiy

मण्डलीय – अनेक को शांत समूह के रूप में व्यवस्थित होकर मण्डल बनाती है।
सुलवत – ये सूत के आकार की होती है।

शैवाल का आर्थिक महत्व | sewal ka arthik mahatva

  • शैवालों में कार्बोहाइड्रेट्स अकार्बनिक पदार्थ तपा विटामिन्स प्रचुर मात्रा में पाए जाते है।
  • लेमिनेरिया नामक शैवाल से आयोडिन उत्पन्न होता है।
  • अल्वा को प्राय: समुद्री सलाद कहते हैं।
  • जापान में सारगासम से कृतिम उन का निर्माण किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *