व्यक्तिगत संचार और जनसंचार के साधन में अंतर।

व्यक्तिगत संचार और जनसंचार के साधन में अंतर।

व्यक्तिगत संचार

  1. व्यक्तिगत लिखित संचार व्यवस्था का संचालन भारतीय डाक तार विभाग करता है, जबकि इसका उत्तर दायित्व संचार मंत्रालय का है।
  2. इसके अंतर्गत डाक सेवा एवं टेलीफोन को सम्मिलित किया जाता है।
  3. पोस्टकार्ड एवं लिफाफे प्रथम स्तर की सेवा कहलाती है।
  4. पुस्तकों के बंडल, पंजीकृत समाचार पत्र तथा साप्ताहिक पाक्षिक और मासिक पत्र दूसरे स्तर की डाक सेवा है।
  5. नगरों और बड़े कस्बों में डॉग को शीघ्र पहुंचाने के लिए डाक निकासी के चैनल बनाए गए हैं। निजी कंपनियों के प्रवेश के कारण संचार में क्रांति आ गई है।

जनसंचार

  1. जनसंचार में मुद्रण माध्यम एवं इलेक्ट्रानिक माध्यम सम्मिलित है। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय देश में सूचना एवं प्रसारण के विकास एवं नियमन के लिए उत्तरदाई हैं।
  2. इसमें रेडियो दूरदर्शन,समाचार पत्र पत्रिकाएं पुस्तकें एवं फिल्मों को सम्मिलित किया जाता है।
  3. रेडियो एवं टेलीविजन से समाचारों का प्रसारण प्रथम स्तर की सेवा है।
  4. आकाशवाणी एवं दूरदर्शन बहुजन हिताय बहुजन सुखाय के लक्ष्य पर ध्यान करती है और मनोरंजन के साथ-साथ अन्य अनेक कार्यक्रमों का प्रसारण किया जाता है।
  5. प्रसार भारती भारत का स्वायत्त प्रसारण निगम है।माध्यम रेडियो वह दूरदर्शन का नियंत्रण करता है।

read more – औद्योगिक क्रांति से क्या लाभ है?

read more – फसल चक्र से क्या समझते हैं ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *